BREAKING NEWS
Search
NBC News24

हमें अपनी खबर भेजे

Click Here!

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.

आस्ट्रेलिया मे देखे गए, चीन के तीन जंगी जहाज, जानिए क्या है मामला

7

जयपुर । हाल ही में एक न्यूज रिपोर्ट के आधार पर सामने आया है, कि ऑस्ट्रेलिया के सीडनी हार्बर नौ सैना के विवादित इलाके में चीन के तीन जहाज देखे गये। जिनमें एक यूझाओं क्लास का लैडिंग शिप व एक लुमाओं क्लास का शिप और एक एंटी सबमरीन मिसाइल से लैस शुचांग क्लास का आधुनिक जहाज शामिल है। देखते ही हंगामा मच गया। और सूत्रों के आधार पर बताया जा रहा है, कि चीन के जहाजों ने ऑस्ट्रेलियाई पायलेटो के ऊपर लेजर से निशाना साधा गया था। इसी महिने स्टैटिजिक पॉलिसी इंस्टयूट हैड उआन ग्राहम ने खुलासा किया है, कि एक एचएमएएस कैनबारा पर तैनात एक हैलिकॉप्टर जब दक्षिणी चीन की और से गुजर रहा था तब उसके पायलेट को कई बार लेजर लाइट से निसाना बनाया गया था। उन्होने यह भी दावा किया था, कि दक्षिणी चीन सागर से विवादित क्षेत्र में ऑस्ट्रेलियाई शिप्स को कई बार रोकने का व उसका पिछा करने का प्रयास किया गया था। ऑस्ट्रलिया के सीडनी हार्बर में जहाजों के पहुँचते ही सैनिकों के मन में तनाव पैदा हो गया।
कुछ खबरों के आधार पर बताया जा रहा है, कि उन तीन जंगी जहाजों में 700 से अधिक सैनिक थे। हार्बर के नौ सैना के अधिकारियों द्वारा उन जहाजों की जांच पडताल की जा रही है। और उन जहाजों के सैनिकों से पुछताछ भी की जा रही है। इस मौके पर ऑस्ट्रिलिया के कई बडी हस्तियों ने सिरकत की है। और उनसे जानने की कोशिश कर रहै है, कि इसके पिछे चीन का क्या मकसद है। लेकिन चीन का मानना है, कि उनके तीन जहाज दिशा भटक गए और ऑस्ट्रेलिया के सीडनी हार्बर में पहुँच गए। चीन के राष्ट्रपति का कहना है, कि उनके देश के जहाजों को भेजने का कोई मकसद नहीं था, परन्तु उनकी गैर हाजिरी में उनके जहाज दिशा भटक कर ऑस्ट्रेलिया में चले गए। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने दक्षिणी सागर को सुरक्षित करने के लिए पीपुल्स लिबरेशन नौ सैना को मजबूत करना शुरू कर दिया है। और इसके लिए हथियारों का बडा निवेश किया जा रहा है।
ये घटना तब हुई, जब ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री सोलोमन आईलैंड के दौरे पर गए हुए थे। प्रधानमंत्री स्कॉट मोरिसन ने ऐसे मामले को गंभीर बताया और कहा कि ये आप लोगों के लिए चौंकाने वाली बात हो सकती है, परन्तु सरकार को इस बारे में पता था। मोरिसन ने कहा कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के पोत चीन गये थे ऐसे में इसके बदले यह चीन का आपसी दौरा हो सकता है। प्रधानमंत्री मोरिसन ने कहा की चीन के युद्धपोत मध्य पूर्व से ड्रग ट्रैपकिंग के बाद लौटे थे।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »